भ्रमण का महत्व पर निबंध | Essay on Importance of Travel in Hindi

  • Post author:
  • Post category:Essay

आज का यह निबंध भ्रमण का महत्व पर निबंध (Essay on Importance of Travel in Hindi) पर दिया गया हैं। आप इस निबंध को ध्यान से और मन लगाकर पढ़ें और समझें। यहां पर दिया गया निबंध कक्षा (For Class) 5th, 6th, 7th, 8th, 9th, 10th और 12th के विद्यार्थियों के लिए उपयुक्त हैं। विद्यार्थी परीक्षा और प्रतियोगिताओं के लिए इस निबंध से मदद ले सकते हैं।

Essay on Importance of Travel in Hindi
Essay on Importance of Travel in Hindi

Essay on Importance of Travel in Hindi

भमिका : किसी कवि ने ठीक ही कहा है कि प्रात: काल सा, स्वास्थ्य सधरता है। प्रातः काल उठने के लिए रात को शीघ्र सोना ‘Early to bed and early to rise’ का सिद्धान्त अपनाना चाहिए। गाँव वाले लागों को प्रकृति की स्वच्छ हवा आसानी से मिल जाती महानगरों में कल-कारखानों की अधिकता और मोटरकारों का मन वायमंडल को प्रदषित करता रहता है। स्वच्छ, सुगधित, शीतल वाया हम प्रातः काल ही कर सकते हैं। प्रातः काल घूमने की आदत बहुत होती है।

 

ये भी पढ़े:- सत्यवादिता पर निबंध हिन्दी में 

 

भ्रमण का महत्व : प्रातः कालीन भ्रमण के अनेक लाभ हैं। सब लाभ यह है कि प्रात: काल शीघ्र उठने से शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है। कालीन शीतल वायु फेफड़ों के लिए बहुत अच्छी होती है। इससे स्मरण पाकि तीव्र होती है। घूमने फिरने से शरीर में एक नई चेतना उत्पन्न होती है। शरीर स्वस्थ्य एवं मन प्रसन्न बना रहता है। ब्लड प्रेशर, मधुमेह आदि बीमारियों पर नियंत्रण रहता है।

 

भ्रमण का शैक्षिक महत्व : पार्क में अनेक लोग सामूहिक योगासन करते हुए देखे जाते हैं। कहीं युवा छात्र फुटबॉल या बालीबॉल खेलते हैं। स्त्रियां आसन करती दिखाई देती हैं तो कहीं वृद्धजनों की टोली भगवान का कीर्तन करने में संलग्न दिखाई देती है। ये सब कार्य भ्रमण के महत्व हैं। छात्रों को ऐतिहासिक महत्व वाले स्थानों का भ्रमण करने से इतिहास, भूगोल, समाज शास्त्र की जानकारी प्राप्त होती है। भारतवर्ष की पुरानी गरिमा के बारे में जानकारी मिलती है। राज्य सरकार ने छात्रों को शैक्षणिक भ्रमण हेतु सभी विद्यालयों में फंड प्रदान कर रखा है।

 

ये भी पढ़े :- पुस्तक के महत्व पर निबंध

 

निष्कर्ष : पार्क में लोग विभिन्न प्रकार के व्यायाम करते मिलते हैं। वे कभी कबड्डी मैच खेलते हैं। कभी लाठी चलाने का अभ्यास करते हैं। भ्रमण करने से ज्ञान-विज्ञान में वृद्धि होती है। रोचक सूचनाएँ प्राप्त होती हैं। तत्कालीन व्यवस्था का पता चलता है। ऐतिहासिक, भौगोलिक एवं स्थापत्य कला के विकास का पता चलता है। अतः भ्रमण अनिवार्य है।

Mukul Dev

मेरा नाम MUKUL है और इस Blog पर हर दिन नयी पोस्ट अपडेट करता हूँ। उमीद करता हूँ आपको मेरे द्वार लिखी गयी पोस्ट पसंद आयेगी।