हिंदी में होली पर निबंध | Essay on Holi in Hindi 2022

  • Post author:
  • Post category:Essay

आज का यह निबंध हिंदी में होली पर निबंध (Essay on Holi in Hindi ) पर दिया गया हैं आप Essay on Holi in Hindi 2021 को ध्यान से और मन लगाकर पढ़ें और समझें। यहां पर दिया गया निबंध कक्षा (For Class) 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8,9.10 और 12 के विद्यार्थियों के लिए उपयुक्त हैं। विद्यार्थी परीक्षा और प्रतियोगिताओं के लिए इस निबंध से मदद ले सकते हैं।

Essay on Holi in Hindi 2022

होली बहुत ही हास-उल्लास एवं रंग और मस्ती का त्योहार है। होली का आरम्भ वसन्त पंचमी से ही शुरू हो जाता है। पेड़-पौधे हँसने लगते हैं। मलयानिल पर्वत से आती वसंती हवा तन में नयी ऊर्जा और मन में उमंग भरने लगती है। गीत के बोल उमड़ने लगते हैं। घरों में, खलिहानों में, चौपालों में, ढोल बजने लगते हैं। झाल झनझनाने लगते हैं। बाहर गए लोग घर आने लगते हैं। फाल्गुन की पूर्णिमा को होलिका दहन होता है। लोग महीनों पहले से ही लकड़ी लाकर इकटठा करते हैं और नियत समय पर लकड़ियों के ढेर को इकठा कर उसमें आग लगा दी जाती है। किसान अपने खेतों के नये अन्न लाकर इसमें गर्म कर आपस में बाँटकर खाते हैं।

 

ये भी पढ़े :-  दहेज प्रथा पर निबंध हिन्दी में 

 

दूसरे दिन होली होती है। रंग और गुलाल का यह विशेष दिन होता है। सवेरे रंगों से होली खेली जाती है, दोपहर के बाद गुलाल की बारी आती है। हँसी-मजाक का दौर चलता है, ठिठोली होती है। रंग और गुलाल डालकर लोग परस्पर गले मिलते हैं, खूब खाते और खूब खिलाते हैं। नये-नये वस्त्र पहनकर लोग घूमते और गाते हैं-‘खेलो रंग हमारे संग’ और ‘आज विरज में होली रे रसिया’।

 

तो होली सर्वत्र खेली जाती है किंतु ब्रज की होली का अपना रंग है। वहाँ लट्ठमार होती है-रंग-रंगी नारियाँ पुरुषों को लाठियों से मारती हैं, ऐसी मार जो प्रेम-पगी होती है। इससे चोट नहीं लगती आनन्द के रंग बिखरते हैं। कहते हैं, कृष्ण होली में गोपियों पर रंग डाल छू-मंतर हो जाते थे और गोपियाँ उन्हें लट्ठ लिए खोजती चलती थीं।

 

इस प्रकार होली बड़ा ही रंगीन त्योहार है जो न सिर्फ दानवता पर मानवता की विजय के प्रतीक के रूप में है, अपितु आपसी वैर-भाव भुलाकर मिलने-मिलाने का त्योहार है। किंतु कुछ लोग इस दिन नशा-पान कर सब – गुड़-गोबर कर देते हैं।
होली हमारा राष्ट्रीय त्योहार है-कृषि-प्रधान देश का, कृषि-कर्म की सम्पन्नता का, सांस्कृतिक पर्व। आइए, इसे पूरी गरिमा से मनाएँ।

Mukul Dev

मेरा नाम MUKUL है और इस Blog पर हर दिन नयी पोस्ट अपडेट करता हूँ। उमीद करता हूँ आपको मेरे द्वार लिखी गयी पोस्ट पसंद आयेगी।