शैक्षणिक यात्रा पर निबन्ध | Education Trip Essay in Hindi

  • Post author:
  • Post category:Essay

आज का यह निबंध शैक्षणिक यात्रा पर निबन्ध (Education Trip Essay in Hindi) पर दिया गया हैं। आप इस निबंध को ध्यान से और मन लगाकर पढ़ें और समझें। यहां पर दिया गया निबंध कक्षा (For Class) 5th, 6th, 7th, 8th, 9th, 10th और 12th के विद्यार्थियों के लिए उपयुक्त हैं। विद्यार्थी परीक्षा और प्रतियोगिताओं के लिए इस निबंध से मदद ले सकते हैं।

Education Trip Essay in Hindi

 

यात्रा शिक्षा का एक महत्त्वपूर्ण अंग है। यह हमें व्यावहारिक ज्ञान प्रदान करता है। इससे हम बहुत कुछ सीखते हैं। यात्रा के दौरान हम नये लोग और नई जगहों को देखते हैं। हम विभिन्न तरह के लोगों से मिलते हैं। यात्रा हमारे जीवन में अहम भूमिका निभाता है। सच तो यह है कि यात्रा के बिना हमारा जीवन सुस्त पड़ जाता है। हम सभी सदैव अपने दैनिक कार्यों में व्यस्त रहते हैं। ये दैनिक कार्यकलाप हमें सुस्त और जीवन को ऊबाउ बना देते हैं। इस ऊबाउपन में यात्रा हमें नई शक्ति और साहस से भर देता है। यदि यात्रा शैक्षणिक हो, तो वह हमें अतुलनीय आनन्द देता है। क्योंकि, शैक्षणिक यात्रा हमें ज्ञान, अनुभव और मनोरंजन भी देता है।

 

ये भी पढ़े:- दैनिक दिनचर्या पर निबंध

 

शैक्षणिक यात्राओं की व्यवस्था विद्यालयों अथवा महाविद्यालयों के द्वारा किया जाता है। गत वर्ष मेरे स्कूल के द्वारा भी एक शैक्षणिक यात्रा की व्यवस्था की गई। मैंने भी उसमें भाग लिया। हमने राजगीर, पावापुरी, नालन्दा घाटी और पटना की यात्रा की। वह सितम्बर का महीना था। हमने टूरिज्म एजेंसी, गोपालगंज,बिहार से एक लग्जरी बस किराये पर लिया। हम संख्या में पैंतीस थे। हमारे शिक्षक भी हमारे साथ थे। हमलोग सुबह के आठ बजे गोपालगंज से पटना के लिए चले।

 

ये भी पढ़े:- पिकनिक पर निबंध हिंदी में.

 

पहले हमलोगों ने पटना घुमा उसके बाद हमलोग राजगीर पहुँचे। हमलोग रोप-वे के रोमांचक यात्रा के लिए उत्सुक थे। हमलोग इस रास्ते से पहाड़ी पर पहुँचे। वहाँ के प्राकृतिक छटा का आनंद लिया। प्रकृति के गोद में स्थित मंदिर के सौंदर्य पर हम मोहित थे। हमलोग वहाँ दो घंटे रुके। हमारे शिक्षक ने उस जगह के ऐतिहासिक महत्त्व की जानकारी दी। हमलोग राजगीर से नालन्दा के लिए प्रस्थान कर गये।

 

ये भी पढ़े:- कंप्यूटर पर निबंध इन हिंदी 

 

नालन्दा घाटी वास्तव में अधिक आकर्षक और ज्ञानवर्धक है। हमने उस प्राचीन विश्वविद्यालय को देखा जिसने अतीत में हजारों विदेशी छात्रों को आकर्षित करता था। हमारे शिक्षक ने बतलाया कि वहाँ कभी चाणक्य पढ़ाया करते थे। आज भी विदेशी लोग शैक्षणिक दृष्टिकोण से इस जगह पर भ्रमण करते हैं। हमने बहुत-से विदेशी छात्रों को देखा जो उस जगह के संदर्भ में जानकारियाँ ले रहे थे। हमलोग वहाँ से शाम में वापस हुए।

 

ये भी पढ़े:- परिश्रम का महत्व पर निबंध

 

अतः हमारे पूर्ण ज्ञान के लिए शैक्षणिक भ्रमण आवश्यक है। यह व्यावहारिक ज्ञान और सूचना के लिए आवश्यक है। हमें केवल किताबी ज्ञान पर आधारित नहीं रहना चाहिए। हमें एसी यात्राएँ करनी चाहिए। शैक्षणिक यात्रा के अभाव में हमारी शिक्षा अधूरी रहेगी। शैक्षिक यात्रा हमारे मानसिक मेकअप को समृद्ध करती है यही कारण है कि ज्यादातर शैक्षिक संस्थान छुट्टियों के दौरान शैक्षिक यात्राएं आयोजित करते हैं।

 

Mukul Dev

मेरा नाम MUKUL है और इस Blog पर हर दिन नयी पोस्ट अपडेट करता हूँ। उमीद करता हूँ आपको मेरे द्वार लिखी गयी पोस्ट पसंद आयेगी।