आदर्श शिक्षक पर निबंध | Essay on Ideal Teacher in Hindi

आज का यह निबंध एक आदर्श शिक्षक पर निबंध (Essay on Ideal Teacher in Hindi) पर दिया गया हैं। आप इस निबंध को ध्यान से और मन लगाकर पढ़ें और समझें। यहां पर दिया गया निबंध कक्षा (For Class) 5th, 6th, 7th, 8th, 9th, 10th और 12th के विद्यार्थियों के लिए उपयुक्त हैं। विद्यार्थी परीक्षा और प्रतियोगिताओं के लिए इस निबंध से मदद ले सकते हैं।

khan sir images

Essay on Ideal Teacher in Hindi

एक आदर्श शिक्षक अपनी सेवाओं के लिए सदैव याद किया जाता है । उदाहरण लिए हम डॉ० राधाकृष्णन का नाम ले सकते हैं । आज भौतिक रूप से वे नहीं हैं, किन हमारे मानस में वे जीवित हैं । वे अपनी सेवाओं के लिए सदैव याद किये जाते 15 सितम्बर प्रतिवर्ष ‘शिक्षक-दिवस’ के रूप में मनाया जाता है ।

 

ये भी पढ़े:- शिक्षक दिवस पर निबंध हिन्दी में 

 

यह एक आदर्श क्षक डॉ० राधाकृष्णन के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है। एक आदर्श शिक्षक राष्ट्रनिर्माता होता है । उनमें अनेक गुण होते हैं । विद्यार्थियों पर नके व्यक्तित्व का प्रभाव बहुत समय तक रहता है । विद्यार्थी उन्हें बहुत दिनों तक याद रते हैं । वे अपने विद्यार्थियों के द्वारा आदर एवं प्रेम पाते हैं । वे अपने विद्यार्थियों का दल जीत लेते हैं । वे विद्यार्थियों को अच्छे नागरिक बनाने का प्रयास करते हैं।

 

एक आदर्श शिक्षक अपने विषय से प्रेम करते हैं । वे जिस विषय को पढ़ाते हैं उसका जान रखते हैं । वे अपने विद्यार्थियों से अपने विषयों को प्रेम करने को कहते हैं । वे उद्यार्थियों को विषय रुचिकर ढंग से पढ़ाते हैं । वे विद्यार्थियों के मस्तिष्क को जागृत करते । वे उनके अन्दर विषयों के प्रति प्रेम जगाते हैं । वे विषय को अच्छी तरह समझाते । वे विषय को आकर्षक बनाते हैं ।

 

ये भी पढ़े:- परिश्रम का महत्व पर निबंध

 

एक आदर्श शिक्षक सुसंकृत होते हैं । उन्हें कर्त्तव्य और जिम्मेवारी का एहसास होता है। वे अपने कार्य एवं विद्यार्थियों के प्रति निष्ठावान होते हैं । चरित्र-निर्माण एक आदर्श शक्षक का मुख्य उद्देश्य होता है । आदर्श शिक्षक अपने विद्यार्थियों के प्रति सदैव मित्रवत् जाते हैं । वे उनके लिए कभी दुरूह बनने का प्रयास नहीं करते ।

 

एक आदर्श शिक्षक सदैव पक्षपातरहित होते हैं। वे सभी विद्यार्थियों को एक- समान खते हैं । विद्यार्थी वैसे शिक्षक को पसंद नहीं करते, जो सदैव उनके कार्यों में त्रुटि तलाशते हते हैं । इसलिए एक आदर्श शिक्षक विद्यार्थियों के प्रति सदैव स्नेहिल एवं पितृवत् होते । एक आदर्श शिक्षक सदैव अपने विद्यार्थियों के साथ होते हैं । वे जीवनपर्यन्त उसका दशा-निर्देश करते रहते हैं