Increase your Money in Hindi | अपना रखा हुआ पैसा कैसे बढ़ाए

बजट का मतलब यह तय करना है कि आप अपना सारा पैसा कैसे खर्च करेंगे। मतलब आपके जरूरी काम और आर्थिक प्रगति की समीक्षा से है। जब आप अपनी बजट योजना शुरू करते हैं, तो शुरुआती चरण मुश्किल होगा। लेकिन अगर आप कमिटिड रहेंगे तो आपको बहुत फायदा होगा।

 

जानिए बजट के बारे में

  • 50/30/20- इस के फार्मूले के मुताबिक आपकी बुनियादी जरूरतों के लिए 50%, अपनी इच्छाओं के लिए 30% और 20% आय बचत के लिए होती है।
  • जीरो बेस्ड बजट – प्रत्येक नए महीने के लिए सभी खर्चों का समुचित आकलन किया जाना चाहिए। यह रिकॉर्ड अगले महीने की योजना बनाने में मदद करेगा।
  • पहले खुद को भुगतान करें – इस बजट पद्धति में बचत में योगदान को प्राथमिकता दी जाएगी।
  • एनवलप सिस्टम – खर्चे की हर कैटेगरी के लिए अलग-अलग लिफाफों में पैसे रखें।

 

कर्ज के बारे में जानिए

कर्ज आज के समाज में पहले से कहीं ज्यादा प्रचलित है। मार्च 2021 में देश के नॉमिनल जीडीपी में भारत का घरेलू कर्ज 14.6% था। प्रत्येक ऋण के लिए, आपको अपनी कुल शेष राशि, ब्याज दर, न्यूनतम मासिक भुगतान, अनुमानित भुगतान तिथि पता होनी चाहिए।

 

कर्ज के प्रकार

  • रिवॉल्विंग – रिवॉल्विंग कर्ज तब होता है जब आप लगातार खर्च कर सकते हैं और कर्ज का भुगतान कर सकते हैं। उदाहरण, क्रेडिट कार्ड।
  • रिवॉल्विंग कर्ज – नॉन-रिवॉल्विंग कर्ज तब होता है जब आप एकमुश्त राशि उधार लेते हैं और इसे एक विशिष्ट अवधि में वापस भुगतान करते हैं। उदाहरण, गिरवी, लोन।

 

  • सुरक्षित ऋण – सुरक्षित ऋण में एक संपत्ति होती है जिसे कर्ज का भुगतान नहीं करने पर ऋणदाता जब्त कर सकता है उदाहरण, गिरवी, ऑटो लोन।
  • असुरक्षित ऋण – असुरक्षित ऋणों में कोई संपत्ति नहीं होती है, जिसे जब्त किया जा सकता है। फिर भी ऋणदाता कानूनी कार्रवाई कर सकता है। उदाहरण, क्रेडिट कार्ड, स्टूडेंट लोन।

 

अपने नेट वर्थ को जानें

नेट वर्थ आपके स्वामित्व और आपके बकाया के बीच का अंतर है।
अपने नेट वर्थ की गणना करने के लिए अपनी सभी संपत्तियों को जोड़ना शुरू करें, जिसमें आपके बैंक में पैसा, निवेश खाते और आपके घर जैसी भौतिक संपत्तियां शामिल हैं। इसके बाद, अपने सभी ऋण जोडें। अपनी संपत्ति से अपने कर्ज घटाएं, और आपको अपना नेट वर्थ मिल जाएगा।

 

क्या आप क्रेडिट-योग्य हैं?

क्रेडिट का मतलब पैसे उधार लेने की क्षमता से है। क्रेडिट रिपोर्ट और क्रेडिट स्कोर दो कारक हैं जो अधिकतर आपकी साख का निर्धारण करते हैं।
आपका क्रेडिट स्कोर आपके वित्तीय टूलबॉक्स में सबसे महत्वपूर्ण संख्याओं में से एक है। खराब क्रेडिट स्कोर के परिणामस्वरूप आपको ऋण से वंचित किया जा सकता है या उच्च ब्याज दरों में फंस सकते हैं।

 

एक क्रेडिट स्कोर क्या है?

एक क्रेडिट स्कोर 300-850 के बीच की एक संख्या है जिसका उपयोग किसी व्यक्ति की साख को दशनि के लिए किया जाता है। एक अच्छा क्रेडिट स्कोर 700 से ऊपर कुछ भी है। क्रेडिट स्कोर क्रेडिट हिस्ट्री, खुले खातों की संख्या, ऋण के कुल स्तर और रीपेमेंट हिस्ट्री और अन्य कारकों पर आधारित होता है।

 

बचत को समझें

बचत व्यक्तिगत वित्त के सबसे महत्वपूर्ण घटकों में से एक है, लेकिन ज्यादातर लोग इसे नहीं कर रहे हैं। अपनी बचत की शुरुआत इमरजेंसी फंड से करें। आपका इमरजेंसी फंड किसी भी अप्रत्याशित खर्च को कवर करने में आपकी मदद कर सकता है। यदि आप अपनी नौकरी खो देते हैं तो यह आय का रिप्लेसमेंट भी हो सकता है।
अन्य प्रकार की बचतें लक्ष्य-आधारित होती हैं जैसे ड्रीम वैकेशन, घर बनाना आदि।

 

क्या आप एक अच्छे निवेशक हैं?

हम देख सकते हैं कि जो लोग निवेश पर कम ध्यान देते हैं, उनके पास सेवानिवृत्ति के समय पर्याप्त पैसा नहीं होता।
इसके बजाय जब आप निवेश करते हैं, तो आपका पैसा बहुत तेज दर से बढ़ता है। माना जाता है कि इससे सेवनिवत्ति के वक्त आपके पास पर्याप्त पैसा होता है।

 

निवेश के नियम

परिसंपत्ति विभाजन – आप अपनी संपत्ति को अपने सभी निवेशों में कैसे विभाजित करते हैं
समय – निवेश से पहले आपको जानना चाहिए कि आपको कितने सालों के लिए आपको जमा पूंजी की जरूरत होगी।”
विविधता – कई अलग-अलग निवेशों में अपना पैसा लगाना चाहिए”
रिस्क लेने की क्षमता – अस्थिर बाजार में पैसा खोने की आपकी क्षमता और इच्छा.