अगर करोड़पति बनना चाहते हैं तो म्यूचुअल फंड में ऐसे करें निवेश

इस वर्तमान समय में शायद ही कोई इंसान होगा, जिसके दिलो दिमाग में अमीर होने की ख्वाहिश ना हो। हर व्यक्ति कम से कम इनवेस्ट कर के जल्द-से-जल्द करोड़पति बनना चाहता है। अगर आपको भी जल्द-से-जल्द करोड़पति बनना है तो आपको म्यूचुअल फंड में सिस्टेमेटिक इंवेस्टमेंट प्लान (SIP) के जरिए निवेश करना चाहिए, जिसमें हर मंथ थोड़ा-थोड़ा निवेश कर आप अपने करोड़पति बनने के सपने को पूरा कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए इस पोस्ट को पूरा पढ़े ताकि समझ में आये कैसे क्या करते है।

 

छोटी रकम से शुरू करें निवेश

 यदि आपने लक्ष्य पहले से ही बना रखा है और उस लक्ष्य को हासिल करने के लिए निवेश भी चालू कर दिया है, तो एक छोटे निवेश से भी बड़ा लक्ष्य हासिल किया जा सकता है। यदि आप एक युवा या जवान हैं तो परंपरागत तरीकों से हटकर Mutual Funds में SIP के जरिए छोटा निवेश करके भी एक बड़ा फंड जुटाया जा सकता है।

 

लंबी अवधि के लक्ष्यों के लिए चुने म्यूचुअल फंड

अगर पैसे से पैसा बनाना चाहते है तो आपके लिए बेस्ट प्लान है म्यूचुअल फंड, म्यूचुअल फंड में अगर लंबी अवधि के लिए निवेश करते है (15 से 20 साल) तो आपको अच्छा रिटर्न मिलता है। लेकिन निवेश शुरू करने से पहले अपने फाइनेंस एडवाइजर से जरूर राय ले उसके बाद ही निवेश करें। यदि आप युवा हैं और एक छोटी नौकरी या एक छोटा बिजनेस भी हैं तो अपने इनकम से मात्र 50 रुपए बचाकर भी आप करोड़पति बन सकते हैं।

 

SIP के जरिए करें निवेश और ऐसे बनें करोड़पति

Mutual Funds में निवेश करने के लिए सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी SIP एक अच्छा विकल्प है। बहुत सारे ऐसे Mutual Funds हैं, जो लंबी अवधि में 12 से 15 फीसदी से भी अधिक रिटर्न देते हैं। ऐसे में यदि आप 50 रुपए रोजाना बचाकर महीने में 1500 रुपए Mutual Fund यानी SIP करते हैं तो अनुमानित रिटर्न 1.56 करोड़ रुपए होगा। और आपका 30 साल में कुल निवेश सिर्फ 5.4 लाख रुपए ही होगा। इस आधार से यदि 30 साल की उम्र में भी निवेश शुरू करते हैं तो 60 साल की उम्र में आप करोड़पति बन जाएंगे।

 

म्यूचुअल फंड में जोखिम के साथ ऐसे कर सकते हैं निवेश

डाइवर्सिफाइड Mutual Funds के बजाए स्मॉलकैप फंड या मिडकैप फंड्स में निवेश कर के बहुत कम समय में करोड़पति बना जा सकता है। Mutual Funds के यह निवेश बेहद ही कम अवधि के होते हैं। यही कारण है ही ये जोखिम भरा होता है, लेकिन इनमें ज्यादा जोखिम के साथ प्रॉफिट भी ज्यादा होता है। करोना के कारण अभी थोड़ा ग्राफ गिरा हुआ है लेकिन लॉन्ग टर्म के लिए म्यूचुअल फंड से अच्छा कोई नहीं है।

 

म्यूचुअल फंड में रिस्क खुद मैनेज करे

म्यूचुअल फंड में जोखिम है तो बता दें कि‍ आप यहां जोखिम को अपने हि‍साब से मैनेज कर सकते हैं. जैसे यहां तीन कैटेगि‍री हाई रि‍स्‍क, मीडि‍यम रि‍स्‍क और लो रि‍स्‍क. ऐसे में अगर आप म्यूचुअल फंड लेते समय हाई रि‍स्‍क का ऑप्‍शन चूज करेंगे तो आपको रि‍स्‍क बहुत ज्‍यादा होगा. लेकि‍न, इसमें फायदा यह है कि‍ आपको अगर फायदा हुआ तो रि‍टर्न भी ज्‍यादा मि‍लेगा. ऐसे में म्यूचुअल फंड में आप अपना रि‍स्‍क जोन खुद सेलेक्‍ट कर सकते हैं.