Nibandh kaise likhe | निबंध कैसे लिखे हिंदी में

Essay का शाब्दिक अर्थ है-कुछ करने का प्रयास करना। इसलिए अच्छे निबंध-लेखन के लिए सतत अभ्यास की आवश्यकता होती है। बगैर अभ्यास के कोई भी अच्छा और प्रभावी निबंध नहीं लिख सकता; क्योंकि निबंध लिखना एक कला है।

निबंध का अर्थ है-विचारों को व्यवस्थित रूप से प्रकट करना। किसी विषय पर विचार करना और उसे व्यवस्थित रूप में प्रकट करना हमारी अभिव्यक्ति को प्रभावी बनाता है। ये सभी बाते अभ्यास से सीखी जा सकती हैं।

किसी निबंध में हमसे किसी विषय पर अपने विचार प्रकट करने को कहा जाता है। इसलिए निबंध लिखने का प्रयास करने के पूर्व हम दिये गये विषय पर विचार करते हैं। ज्योंहि हम उस विषय पर सोचना शुरू करते हैं, हमारे मस्तिष्क में विचारों की श्रृंखला बननी शुरू हो जाती है। और हम उन्हें निबंध के रूप में सजाते हैं। हम उन विचारों को विभिन्न खंडों में प्रस्तुत करते हैं। एक खंड में किसी एक बिन्दु पर चर्चा करते हैं।

निबंध सदैव स्पष्ट एवं सरल रूप में लिखना चाहिए । निबंध का आरंभ रुचिकर एवं प्रभावी होना चाहिए । परिचयात्मक खंड संक्षिप्त एवं सारगर्भित होना चाहिए। अंतिम खंड प्रभावी एवं स्वाभाविक होना चाहिए। अंतिम खंड किसी भी निबंध का सदैव उपसंहार होता है। इसे प्रभावी होना चाहिए।

निबंध सदैव सरल, स्वाभाविक एवं शुद्ध भाषा में होना चाहिए । अस्पष्ट एवं कठिन शब्दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए । व्याकरण की अशुद्धि नहीं होनी चाहिए। वाक्य संक्षिप्त एवं प्रभावी होने चाहिए । विराम-चिह्नों पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

अतः अन्य कलात्मक रचनाओं की तरह निबंध के भी आरंभ, मध्य और अंत होते हैं। कहा जाता है कि निबंध लिखना भी माला बनाने की तरह है । हम एक-एक फूल को गूंथकर माला बनाते हैं । ठीक उसी तरह हम एक-एक वाक्य को जोड़कर उसे एक समरूपता देते हैं।

इस तरह उपर्युक्त नियमों का अनुशरण किसी को एक अच्छा निबंधकार बना सकता है । इन नियमों को अपनाकर और सतत अभ्यास के द्वारा कोई भी अच्छा निबंधकार बन सकता है । अभ्यास ही किसी व्यक्ति को पूर्ण बनाता है ।