शिक्षक दिवस पर निबंध 2021 | Teachers Day Essay in Hindi

  • Post author:
  • Post category:Essay

आज का यह निबंध शिक्षक दिवस पर निबंध (Teachers Day Essay in Hindi) पर दिया गया हैं। आप इस निबंध को ध्यान से और मन लगाकर पढ़ें और समझें। यहां पर दिया गया निबंध कक्षा (For Class) 5th, 6th, 7th, 8th, 9th, 10th और 12th के विद्यार्थियों के लिए उपयुक्त हैं। विद्यार्थी परीक्षा और प्रतियोगिताओं के लिए इस निबंध से मदद ले सकते हैं।

Teachers Day Essay in Hindi

Teachers Day Essay in Hindi

शिक्षक-दिवस शिक्षकों को राष्ट्र-निर्माता माना जाता है। वे लोग विद्यार्थियों के चरित्र का निर्माण करते हैं। विद्यार्थी राष्ट्र के भविष्य हैं। इसलिए हमारे समाज में शिक्षकों को बड़ा सम्मान प्राप्त है। उन्हें सबों का प्रेम और सम्मान मिलता है। प्राचीनकाल में उन्हें हमारे समाज विशिष्ट स्थान दिया जाता था। वे जो कुछ भी कहते थे, उसे पवित्र वाक्य माना जाता था। वे शुद्ध सरल और भौतिक विलासिता से परे का जीवन जीते थे। लेकिन आज के शिक्षकों की स्थिति कुछ भिन्न है।

 

एक शिक्षक का कार्य किसी खास विषय को पढ़ाने से कहीं ज्यादा है। एक योग्य शिक्षक लड़के एवं लड़कियों के मस्तिष्क को निर्मित करते हैं, जब उनके मस्तिष्क प्रभावित होने की अवस्था में होते हैं। वह अपने विद्यार्थियों के व्यक्तित्व का निर्माण करता है। वह उन्हें एक जिम्मेवार नागरिक बनाने का भरपूर प्रयास करता है। इसलिए शिक्षक-दिवस के अवसर पर विद्यार्थी अपने शिक्षक के प्रति स्नेह एवं सम्मान अर्पित करते हैं । यह वह अवसर होता है, जब शिक्षक एवं विद्यार्थी के बीच एक अटूट सम्बन्ध बनता है।

 

ये भी पढ़े :- पुस्तक पर निबंध हिंदी में

 

आज भारत में प्रत्येक वर्ष 5 सितम्बर को शिक्षक-दिवस मनाया जाता है। यह दिन डॉ. राधाकृष्णन का जन्मदिन है। वे एक महान दार्शनिक एवं आदर्श शिक्षक थे। उन्हें देश एवं विदेश में लोगों का सम्मान मिला । इसलिए उनका जन्मदिन शिक्षक-दिवस के रूप में मनाया जाता है।

 

यह दिन शिक्षक-दिवस के रूप में विद्यालयों में मनाया जाता है। इस अवसर पर विद्यार्थी अपने शिक्षकों को बहुत-से उपहार देते हैं। वे अपनी कक्षाओं को सजाते हैं। लोग सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन करते हैं। कुछ विद्यालयों में विद्यार्थियों द्वारा आयोजित कार्यक्रमों में शिक्षक भी भाग लेते हैं । यह मित्रवत् भाव को बढ़ावा देता है।

 

ये भी पढ़े:- सत्यवादिता पर निबंध हिन्दी में

 

शिक्षा के विकास एवं सामाजिक उन्नति के लिए आवश्यक है कि शिक्षकों को उचित सम्मान दिये जाएँ। उन्हें अच्छा वेतन मिलना चाहिए। यदि वे दरिद्रता से संघर्ष करते रहेंगे तो बेहतर शिक्षा देने की बात नहीं सोच सकेंगे। अतः शिक्षक-दिवस के अवसर पर इन बातों का लेखा-जोखा लेना चाहिए कि शिक्षकों को उनके कार्यों के लिए उनके हक दिये जा रहे हैं अथवा नहीं।

शिक्षक दिवस पर निबंध से जुड़े प्रश्न और उनके उत्तर (FAQ)

Q.1. सबसे प्रथम बार शिक्षक दिवस कब मनाया गया था?

उतर. 1962 में सबसे प्रथम बार शिक्षक दिवस मनाया गया था।

Q.2. विश्व शिक्षक दिवस किस दिन मनाया जाता है?

उतर. हर वर्ष 5 अक्टूबर को विश्व शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

Q.3. शिक्षक दिवस की शुरुआत कैसे हुई?

उतर. डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिवस

Q.4. किसने कहा है कि “शिक्षण एक पेशा नहीं है जीवन का एक तरीका है”?

उतर. नरेन्द्र मोदी

Q.5. डॉ. राधाकृष्णन भारत के राष्ट्रपति कब बने?

उतर. 1962 में.

आज के इस लेख में हमने शिक्षक दिवस पर निबंध को विस्तार से पढ़ा और जानकारी प्राप्त किया । इसके अलावा हमने ये भी जाना की भारत में ही नहीं अपितु पूरे विश्व में शिक्षक दिवस की प्रतिष्ठा व्याप्त है। हम उम्मीद करते हैं आपको हमारा ये लेख बहुत पसंद आया होगा। यदि पसंद आया हो तो कृपया इसे अपने मित्रो व सगे संबंधियों के साथ अवश्य शेयर करें।

Mukul Dev

मेरा नाम MUKUL है और इस Blog पर हर दिन नयी पोस्ट अपडेट करता हूँ। उमीद करता हूँ आपको मेरे द्वार लिखी गयी पोस्ट पसंद आयेगी।